अपने ही आश्रम की साध्वी के यौन शोषण केस में फंसे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह अपने तीन साल के फिल्मी करियर में पांच फिल्में बना चुके हैं और अब उनकी छठी फिल्म भी तैयार है। हाल ही में उन्होंने अपनी इस फिल्म को लेकर ट्वीट किया और बताया कि यह फिल्म वैदिक सुपरसाइंस पर आधारित है

जानिए उनकी अब तक आ चुकी फिल्मो के बारे में

एमएसजी: द मेसेंजर (MSG: THE MESSENGER)

‘एमएसजी: द मेसेंजर’ देश भर में करीब चार हजार स्क्रीन में रिलीज हुई थी, इस फिल्म को आप सच्चा सौदा डेरा पर बनी एक ऐसी मेगा बजट डॉक्युमेंट्री फिल्म भी कह सकते हैं, जिसमें डेरा प्रमुख की जी भरकर स्तुति की गई थी। फिल्म धर्मगुरु राम रहीम की दास्तां पेश करती है। राम रहीम इस फिल्म में लोगों को ड्रग्स और शराब जैसी लत से दूर कर अपना अनुयायी बनाते हैं, जिसके कारण ड्रग और शराब माफिया उनके दुश्मन बन जाते हैं, लेकिन राम रहीम अपनी चमत्कारी शक्तियों से खुद को और अपने शिष्यों को माफिया से बचाते हैं। राम रहीम की ऐक्टिंग और नाच-गाने की कमजोरियों को फटाफट बदलते सीन से छिपाने की कोशिश की गई है, यानी गानों की एडिटिंग अच्छी है। फिल्म के स्पेशल इफेक्ट्स की क्वॉलिटी बेहद खराब है।

 

एमएसजी2: द मेसेंजर (MSG2: THE MESSENGER)

‘एमएसजी2: द मेसेंजर’आदिवासियों के जीवन पर आधारित है और इसमें रियल स्टोरी को दिखाया गया है। दो घंटे दस मिनट की इस फिल्म में दर्शकों के लिए समाजसेवा के संदेश के साथ साथ मनोरंजन के लिए एक प्रेम कहानी भी है। फिल्म में राजस्थान के उदयपुर के एक इलाके के आदिवासियों के जीवन और उनकी समस्याओं को दिखाया गया है। डेरा की ओर से इसी इलाक़े में तीन साल तक समाज सुधार का अभियान भी चलाया गया था। उस जनसेवा अभियान को भी इस फिल्म में प्रमुखता से दिखाया गया है।

 

हिंद का नापाक को जवाब (HIND KA NAPAK KO JAWAB)

हिंद का नापाक को जवाब: इस बार संत डॉ. एमएसजी स्प्रिचुअल गुरु नहीं, बल्कि एक योद्धा लॉयन हार्ट (शेर दिल) की भूमिका में हैं, जो अजर और अमर है। एलियन की हमले से दुनिया खतरे में है, जिसपर लॉयन हार्ट जवाबी हमला करता है। लेकिन, यह केवल एक मौका भर है फ्लैशबैक में जाने का, जब शेरदिल ने 100 साल पहले ऐसे ही एलियन को अपने ताकत के बल पर पस्त किया था। फ्लावर प्रिंट वाले जूते, चमकते हुए हुडी टी-शर्ट, तलवार जो कलम में बदल जाता है और भाला, जो कि सनग्लास में तब्दील हो जाता है- और यही हैं यह रॉकस्टार गुरुजी। हवे में उछलकर किए गए उनके स्टंट, कार्डबोर्ड के कवच देख शायद न्यूटन और रजनीकांत के भी पसीने छूट जाएं।

 

जट्टू इंजिनियर (JATTU ENGINEER)

जट्टू इंजिनियर: बाबा राम रहीम अपनी फिल्म ‘जट्टू इंजिनियर’ में कॉमेडी के साथ-साथ सशक्त संदेश देते नजर आए। हेडमास्टर के रोल में गांव वालों को सुधारते तो कभी कमीडियन के रूप में सबको लोटपोट करते दिखे। फिल्म में कॉमिडी के साथ-साथ संदेश दिया गया है कि हर गांव अगर हिम्मत करे तो आत्मनिर्भर बन सकता है और विकास में सरकार की मदद कर सकता है।